व्ही शांताराम – अंधविश्वास के विरोधी

 

वीर विनोद छाबड़ा

अंधविश्वास का दूसरा नाम है फ़िल्मी दुनिया। फ़िल्म के फ्लोर पर जाने से लेकर रिलीज़ होने तक तमाम मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च के चक्कर लगते हैं। बड़े से बड़ा नास्तिक भी मत्था टेकता और नाक रगड़ता हुआ दिखता है। बरगद-पीपल के फेरे मारता है।

ज्योतिषियों-नजूमियों की सलाह लेता है। लेकिन हिंदी और मराठी फ़िल्म इंडस्ट्री के महारथी व्ही.शांताराम उर्फ़ अण्णासाहेब अंधविश्वास और दकियानूसी की दुनिया से बहुत दूर थे।

पचास के दशक में कैदियों को सुधारने के लिए सतारा ज़िले की एक राजसी स्टेट में ‘प्राचीर विहीन जेल’ का प्रयोग किया गया था। यह ख़बर शांताराम जी तक पहुंची। वो अनेक पाथ-ब्रेकिंग फिल्मों के जनक रह चुके थे। उनके दिमाग में एक आईडिया ने जन्म लिया – दो ऑंखें बारह हाथ। छह खूंखार कैदी और एक सुधारवादी जेलर। जेलर का दावा था कि सबसे ख़तरनाक छह क़ैदी पैरोल पर उसके हवाले कर दो। उन्हें खुले वातावरण में रख कर साल भर में सुधार देगा। और जेलर ने तमाम दिक्कतों को सहते हुए हत्यारों में सोये अच्छे इंसान को जगा दिया। मगर ऐसा करते हुए एक दुर्घटना में जेलर की जान चली गयी।
दिलीप कुमार ने भी जेलर बनने से मना कर दिया। लेकिन अण्णासाहेब का दिल न टूटा। कैमरे के सामने खुद खड़े होने का फैसला किया। लीक से हटी यह फ़िल्म जब फ्लोर पर गयी तो उस दिन अमावस थी। जिसने भी सुना, यही फुसफुसाया कि चकरा गए हैं अण्णासाहेब। उन्हें बहुत समझाया-बहलाया गया। मालूम नहीं कि अमावस का दिन किसी और के लिए शुभ हो सकता है, मगर फ़िल्म वालों के लिए बिलकुल नहीं। क्यों आत्महत्या करना चाहते हो?

मगर अण्णासाहेब न माने। वो अंधविश्वास के सिर्फ़ दिखावटी विरोधी नहीं थे। आदर्शवादी फ़िल्में बनाते थे तो असल ज़िंदगी में दूसरों के लिए सबक थे। और लाख विरोधों के बावजूद ‘दो आंखें बारह हाथ’ (१९५७) अमावस के रोज़ ही फ्लोर पर गयी।

आगे की कहानी तो हिस्ट्री है। फ़िल्म क्लासिक बन गयी। १९५६ में सर्वश्रेष्ठ फिल्म और श्रेष्ठ हिंदी फिल्म का राष्ट्रीय पुरूस्कार मिला। बर्लिन इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में सिल्वर बीयर मिला। इसके अलावा अपने कथ्य, अनुकरणीय कल्पनाशीलता और निर्माण की गुणवत्ता के कारण कई इंटरनेशनल फेस्टिवल्स में अवार्ड के लिए नॉमिनेट हुई और खूब सराही भी गयी।

दिलीप कुमार भी पछताये कि हाय, मैंने क्यों मना किया। बाद में इसके तमिल वर्जन में ग्रेट एमजी रामचंद्रम हीरो थे और तेलगु संस्करण में ग्रेट एनटी रामाराव। यही नहीं, इस फिल्म का ये गाना देश के कई स्कूलों में सुबह की प्रार्थना गीत बना – ऐ मालिक तेरे बंदे हम…अपने कथ्य के दृष्टि से आज भी यह अनुकरणीय फिल्म है।

अण्णासाहेब की तमाम फ़िल्में बिना मुहूर्त फ्लोर पर गयीं और बिना प्रीमियर हुए रिलीज़ भी हुईं। वो उन पहले महारथियों में से थे जिन्होंने पहचाना कि तमाम सड़ी-गली परम्पराओं व रीति-रिवाजों को जड़ से उखाड़ फेंकने की मुहीम में फिल्म एक सशक्त मीडिया है। डॉ कोटनिस के अमर कहानी, अमर भोपाली, दुनिया न माने, पड़ोसी, दहेज, स्त्री, शकुंतला, झनक झनक पायल बाजे, नवरंग, जल बिन मछली नृत्य बिन बिजली, पिंजरा, गीत गाया पत्थरों ने, बूंद जो बन गयी मोती आदि अनेक लैंडमार्क फ़िल्में बनायीं उन्होंने। सिनेमा के सबसे ऊंचा दादा साहब फाल्के अवार्ड और पदम भूषण से नवाज़ कर सरकार खुद गौरवांवित हुई। वो 18 नवंबर 1901 को जन्मे सामाजिक चेतना से भरपूर इस महान चिंतक ने 30 अक्टूबर 1990 को चिर निद्रा ली।

२४ सितंबर २०१८


Share this Post on :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »