दंगो में अपना सब कुछ लुटा चुका एक मुसलमान जब 11 साल बाद पहुँचा अपने गाँव

जब कभी मेल या एक्सप्रेस ट्रेन से फ़तुहा स्टेशन आने वाला होता, जहां से उस समय मार्टिन कंपनी की छोटी

Read more

फ़ैज़ : जिसने कुछ इश्क़ किया, कुछ काम किया….

माजिद मजाज़ हुस्न, मोहब्बत, इंसानी दोस्ती, अदल-ओ-इंसाफ़ का मसीहा और जुर्रत-ए-इज़हार का दूसरा नाम फ़ैज़ अहमद फ़ैज़! उर्दू शायरी को

Read more

जब देशभक्ती गीत लिखने की वज़ह कर ‘कवि प्रदीप’ को अरसे तक भूमिगत रहना पड़ा…

आज हिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है, दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिन्दुस्तान हमारा है प्रसिद्ध भारतीय कवि

Read more

शाद अज़ीमाबादी :- वो इज़्ज़त-ओ-शोहरत नहीं मिली जिसके वो मुस्तहिक़ थे।

8 जनवरी 1846 को बिहार के अज़ीमाबाद में पैदा हुए सैयद अली मोहम्मद को दुनिया आज शाद अज़ीमाबादी के नाम

Read more

जब जॉन एलिया ने कहा :- हां, मैं अमरोहे का था, भारत का था, भारत का ही रहा…

अली ज़ाकिर एक ही फ़न तो हमने सीखा है जिससे मिलिए उसे खफा कीजिए हां, मैं अमरोहे का था, भारत

Read more
Translate »