Tag

#SaifuddinKitchlew #JallianwalaBagh

आख़िर जालियांवाला बाग़ क़त्ल ए आम ही अंग्रेज़ों के ज़ुल्म की सबसे बड़ी निशानी क्युं बनी?

Md Umar Ashraf आजके रोज़ ही 1919 को जालियांवाला बाग़ में क़त्ल ए आम हुआ था। सैंकड़ो की तादाद में…

जलियांवाला बाग़ नरसंहार से पहले की कहानी जिसके डर से अंग्रेज़ों ने रची थी ये साजिश

9 अप्रैल 1919 को आयोजित रामनवमी की शोभायात्रा का आयोजन एक मुस्लिम डॉ. बशीर द्वारा किया जाना अंग्रेज हुकूमत को…

सैफ़ुद्दीन किचलू – जिसके समर्थन में हज़ारों लोगों ने जालियांवाला बाग़ में गोलीयां खाईं

हिन्दुस्तान की जंग ए आज़ादी के अज़ीम रहनुमा सैफ़ुद्दीन किचलू का जन्म पंजाब के अमृतसर में 15 जनवरी 1888 को…

Close
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com