Tag

#Majaz

बस यूँहीं मजाज़ मेरे पास से उठकर चले जाते हैं और मजाज़ को पैदाइश की मुबारकबाद अनसुनी रह जाती है…

हफ़ीज़ किदवई दो नाम कहें या दो दौर कहें, या एक दौर की दो नुमाइश कहें, मजाज़ और मंटो। इनके…

Close
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com