1857 की कहानी, ग़ालिब की ज़बानी 

  मिर्ज़ा ए.बी बेग 1857 के पहले स्वतंत्रता आंदोलन को सिपाही विद्रोह, ग़दर या फ़िर पहला स्वतंत्रता आंदोलन कहा जाए यह कभी न ख़त्म होने वाली बहस है. ऊर्दू भाषा के महान कवि असदुल्लाह ख़ां ग़ालिब उस समय 60 वर्ष के थे और उन्होंने मई 1857 से जुलाई 1858 तक के दिल्ली के हालात को … Continue reading 1857 की कहानी, ग़ालिब की ज़बानी