Md Umar Ashraf

1903 में पूर्णिया के मझगांव में मुहम्मद ताहा के घर पैदा हुए मुहम्मद ताहिर पहले मुस्लिम लीग के नेता था, बाद में कांग्रेस से जुड़ गये।

इन्होंने शुरुआती पढ़ाई ज़िला स्कूल पूर्णिया में की, फिर उच्च शिक्षा के लिए अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सटी चले गये. बी.ए – एम.ए के इलावा क़ानून की पढ़ाई की, जिसके बाद इन्होंने वकालत शुरू कर दी, फिर राजनीति से जुड़कर 1930 में पुर्णिया डिस्ट्रिक्ट बोर्ड के मेम्बर चुने गये. 1933 से 1939 तक सदर लोकल बोर्ड के वाईस चेयरमैन और फिर उसके बाद 1941 तक इसके चेयरमैन रहे, और फिर 1941 से 1945 तक पुर्णिया डिस्ट्रिक्ट बोर्ड के चेयरमैन रहे। 1937 में हुए चुनाव में हिस्सा लिया और जीत हासिल की, 1946 में जीत हासिल की और 1952 में भी, इस तरह ये तीन बार बिहार लेजिस्लेटिव असेंबली के सदस्य चुने गये।

1946 में संविधान सभा का हिस्सा बने और 1950 तक इसका हिस्सा रहे तथा यहां अपने महत्वापुर्ण सुझाव भी दिये।

1957 और 1967 के दौरान ये कांग्रेस के टिकट पर दो बार लोकसभा सदस्य चयनित हुए. एक बार पूर्णिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से तो दूसरी बार किशनगंज लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से। और इस दौरान इन्होंने कई शिक्षण संस्थाओं की शुरुआत भी की।

मुहम्मद ताहिर को खेल कूद का बहुत शौक़ था वो फ़ुटबाल और टेनिस के इलावा शुटिंग के भी चैंम्पियन थे। इसके इलावा ये पवित्र हज यात्रा पर साऊदी अरब भी गए।